Author Archive

विजयादशमी जो कि सत्य के विजयी भाव का प्रतीक है

हर साल हम विजयदशमी मनाते हैं रावण को जलाते हैं। उस रावण को जिसका वध बहुत पहले भगवान राम जी ने कर दिया था। मगर उसका या उसके पुतले का दहन हम आज तक कर रहे हैं। उस रावण का दहन देखने को न जाने कितनी भीड़ लगती है। बच्चे , बूढ़े , जवान

व्यथा- एक हिंदी कविता

यह कविता महज एक कविता नहीं बल्कि एक ऐसी महिला का दर्द है जो अभी भी मेरे आस पास के इलाके में रह रही है। कविताएं व कहानियां हमारे समाज का ही हिस्सा होती हैं जहाँ दर्द है, ख़ुशी है, ईर्ष्या है, नफरत है तो प्रेम भी है…! मेरी कविता का शीर्षक है –