विशेषांक Special – रोचक जानकारियां, विशेष लोगों की रोचक बातें Archive

गणतंत्र विशेष – पूर्ण स्वराज और गणतंत्र दिवस इतिहास, क्यों इतना है महत्वपूर्ण

Gantantra Diwas Kya Hai ? वैसे तो इस विषय की जानकारी लगभह प्रतेय भारतवासी को होगी। Republic Day Kyu Manate Hain इसके बारे में भी हम सभी देशवासी जानते होंगे। किन्तु प्रायः ये देखने अथवा सुनने में आता है कि युवा पीढ़ी, स्कूली बच्चे अभी भी इसके पूर्ण ज्ञान से वंचित हैं। वे सभी

दीपावली से जुड़ी हुई रोचक परम्पराएँ

सर्वप्रथम आप सभी को दीपावली की ढेर सारी शुभकामनाएँ। मैं कामना करती हूँ कि आप का यह त्यौहार शुभ हो। दीपावली रोशनी का उत्सव है। यह त्यौहार हमें सिखाता है कि कैसे हर अंधकारमय कोने को हम सकारात्मक रोशनी से रौशन कर सकते हैं। लेकिन क्या आपने कभी जानना चाहा है कि Deepawali को

कलाम साहब को सलाम

कुछ लोग जाते-जाते हमें जिंदगी जीना सिखा जाते हैं। जी हाँ, कलाम साहब एक ऐसी शख्सियत थे जिनके मुकाम पर पहुँच पाना नामुमकिन के काफी करीब है। आज उनके जन्मदिन पर मैं आपसे कुछ खास बातें करना चाहती हूँ। वह बातें जो कि कलाम साहब की जिंदगी को और भी रोचक और प्रेरणादायक बनाती

अटल जी: एक अतुलनीय व्यक्तित्व

भारत का एक हीरा भारत ने खो दिया, यह बात सच है कि अटल बिहारी वाजपेयी जी की कमी को कभी पूरा नहीं किया जा सकता। एक प्रखर राजनेता, एक अतुलनीय कवि, एक बेहतरीन वक्ता और एक अखण्ड शख्सियत अब हमारे बीच नहीं है लेकिन अटल जी ने अपने जीवन को इतना बड़ा बना दिया

“अटल बिहारी वाजपेयी” एक नाम कई पहचान

“अटल बिहारी वाजपेयी” एक नाम कई पहचान। Atal Bihari Vajpayee Ek Naam Kayi Pahchaan अमूमन तौर पर एक व्यक्ति की केवल एक ही पहचान होती है परन्तु इस धरा पर कई ऐसे व्यक्ति या फिर यूँ कहें महान विभूतियों नें जन्म लिया है जिनको कई रूप में जाना व पहचाना जाना जाता है। ऐसी

क्योंकि हम आज़ाद हैं

हम अपनी स्वतंत्रता का एक नया वर्ष पूरा करने जा रहे हैं इस दिवस को मूलतः स्वतंत्रता दिवस के नाम से जाना जाता है। भारतीय होने के नाते मुझे आपको यह बताने की आवश्यकता नहीं कि हमारा देश 15 अगस्त सन 1947 को आज़ाद हुआ था। लेकिन यह सब बातें तो आज बहुत पुरानी

सम्पूर्णता का नाम: महाकुम्भ मेला

भारत ही नहीं अपितु समस्त विश्व में होने वाली सबसे बड़ी मानस सम्मेलन का नाम महाकुंभ। यह पूरी दुनिया में आयोजित होने वाले मेलों में से सबसे बड़े मेले का नाम है। जहाँ पर हर बार करोड़ों की संख्या में जनता शामिल होती है। महाकुंभ हर 12 वर्ष के अंतराल में आयोजित किया जाता

अर्धकुम्भ महामेला: भारत की अखंडता की तस्वीर

हिंदुत्व के अस्तित्व को और भी गौरान्वित करता हुआ धार्मिक पवित्रता की ओर अग्रसर एक बड़ा पहलू, भारत ही नहीं अपितु संपूर्ण विश्व का सबसे बड़ा अर्धकुम्भ मेला। इस Ardh Kumbh Mela, का नाम सुनते ही इसकी तस्वीर आँखों के आगे दिखाई देने लग जाती है। अनगिनत भक्तों की मौजूदगी, ईश्वर की भक्ति में

इलाहबाद माघ मेला विवरण – प्रयाग माघ मकर संक्रांति स्नान, माघ मेले की पौराणिक महत्ता

वर्ष 2019 बेहद खास है, प्रयाग नगरी इलाहबाद में अर्ध कुंभ धार्मिक मेले का आयोजन 2019 में होना है। आपको बता दें की अर्ध कुम्भ नामक यह धार्मिक पर्व 6 साल में एक बार ही मनाया जाता है जो इलाहबाद के अलावा हरद्वार और उज्जैन में भी आयोजित होता है। Allahabad में आयोजन होने

रुक जाना नहीं

इस ब्रम्हांड में सब कुछ चलायमान है और जो चलायमान है वही जीवित है, जो अचल है वह मृत के समान है। यहाँ चल और अचल से तात्पर्य क्रिय और निष्क्रिय से है। नदियां , झरने सदैव बहते रहते हैं यदि उनका बहाव रुक जाए तो जल उपयोगी नहीं होता विषाक्त होता चला जाता