Author Archive

Hindi हास्य व्यंग – Funny Story मोटापा एक परेशानी, शर्मा जी की मोटी तोंद

हास्य व्यंग : क्या मोटापा सच में एक बड़ी परेशानी है ? आईये मिलते हैं शर्मा जी से 🙂 🙂 🙂 🙂 🙂 खाने का शौक और आलस इन्सान को क्या से क्या बना देता है ! अब हमारे शर्मा जी को ही ले लीजिये कभी बड़ा सुडौल और छहरीला बदन था इनका, मगर

लिप्सटिक अंडर माई बुर्का Lipstick Under My Burkha – Censor Board और विवाद, क्या जरूरी है फिल्मों को सेंसर करना

यह कोई पहला मामला नहीं है कि ‘Central Board of Film Certification‘ नें किसी फिल्म के प्रदर्शन को रोका हो। हम अक्सर फिल्म निर्माताओं और Censor Board के बीच होने वाले विवाद को देखते और सुनते आयें हैं। Central Board of Film Certification कोई व्यक्तिगत संस्था नहीं है ये एक सरकारी संस्था है जिसके

यादें होली के पुराने गीतों की – भारतीय फिल्मों से ख़त्म होते त्यौहार पे आधारित फ़िल्मी गीत

होली आने वाली है ये बात जहन में आते ही बहुत कुछ याद आनें लगता है जैसे अपने बचपन का वो पल जब हम दोस्तों के साथ होली वाले दिन उछल कूद किया करते थे और मोहल्ले में होली पे आधारित पुरानी फिल्मों के गीतों का बजना .. सच में मन अनायास ही एक

हास्य व्यंग – बुरा ना मानों होली है, Bura Na Mano Holi Hai, Funny Hindi Story

आई गयी होली …… सबेरे-सबेरे हमरे पाजामें पे एक बच्चा पानी भरा गुब्बारा फेक दिया और दौड़ के भागा अपनें घर में, ‘पाण्डेय जी’ जान गये कि होली आये वाली है अब जरा कुरता पजामा बचा के चलना पड़ेगा। ससुरा ई अजीब त्यौहार है – दुनियाँ का सारा कुकर्म कर देते हैं औऱ कहते

चुनावी जूमलों और नारों में उलझती जनता – Hindi Slogan During Election in India

“चुनावी जूमलों और नारों में उलझती जनता” हिंदुस्तान में होने वाले चुनाव का माहौल किसी युद्ध से कम नहीं होता। देश की तमाम राजनीतिक पार्टियाँ अपने पूरे जोश और ताकत से चुनाव के प्रचार प्रसार में डूब जातीं हैं। हर पाँच साल में हमारे नेताओं को जनता का ख़याल आता है और फिर शुरुआत

Nuclear vs Joint Family – Breaking Ties with Relatives, Why Joint Family Important?

“सामूहिक और एकल परिवार” , मैं किसी कथा कहानी या फिल्म की बात नहीं कर रहा बल्कि ये शीर्षक वर्तमान में कमजोर होते पारिवारिक रिश्तों और प्रभावित होते जीवन के मामलों को उजागर करता है। हमारे देश में माँ बाप , भाई बहन, पती पत्नी के अलावा ऐसे कई अन्य रिश्ते भी हैं जिन्हें

India Election – Campaign Expenses, The Game of Money and Power

कहते हैं कि “परिवर्तन ही संसार का नियम है” सच में बहुत कुछ बदल गया है। भारत का अतीत और भारत का वर्तमान दोनों में ही ज़मीन आसमान का अंतर स्पष्ठ दिखायी देता है। परंतु एक ऐसी चीज है जिसके बदलाव से भारतीय राजनीति, उसके मूल एवं सिद्धान्त भी काफी बदल गये जिससे आज

भारत में आरक्षण का इतिहास, जातिगत आरक्षण कैसे हुई शुरुआत

भारतीय राजनीती और जातिवाद इन दोनों का बहुत पुराना और गहरा रिश्ता है जो बदलते भारत के साथ – साथ अपनीं जड़ें और भी मजबूत करता चला गया। हिंदुस्तान की आज़ादी को पूरे 70 साल हो गये मगर इन 70 सालों में भी जातिवादिता हमारे समाज में विद्द्मान रही या यूँ कहें कि जातिवादिता

Valentines Day History वैलेंटाइन डे का इतिहास, क्या है वैलेंटाइन डे – Horrifying Facts of Valentine Day in Hindi

14 February, साल की ये खास तारीख जिसका जवाँ दिल बेसब्री से इंतज़ार करते हैं। वैसे तो ये दिन पूरे विश्व में अपनी खास पहचान बना चुका है पर इसके हक़ीक़त का शायद ही किसी को पता हो। रोम से निकल कर यूरोपीय देशों, फिर धीरे – धीरे इस्लामिक देशों और भारत समेत अन्य

Rising Educational Fee in India – Worry Moment for Middle Class Families

शिक्षा का अधिकार , शिक्षा मानव का अधिकार और शिक्षा का मौलिक अधिकार ये तीनों ही बातें हमारे शिक्षा अधिकार कि ओर इशारा करतीं हैं जो की अब कानूनी तरीके से भी लागू हो चुका है। खैर यह लेख शिक्षा अधिकार के ऊपर नहीं है बल्कि शिक्षा के बाज़ारीकरण की ओर इशारा करता है।