Author Archive

यूट्यूब मोनेटाइजेशन क्या है

यूट्यूब मोनेटाइजेशन क्या है ?दोस्तों, पखेरू पर आज का विषय YouTube Monetization पर केंद्रित है। जिसमें हम सिर्फ ‘मोनेटाइजेशन’ के सन्दर्भ में ही बात करेंगे। अगर मैं आपको यूट्यूब का परिचय दूँ तो यह एक “Video hosting service” कंपनी है, जहां दुनियां का कोई भी यूजर Free Video Upload कर सकता है। यूट्यूब की

हाई बाउंस रेट के कारण व कम करने के उपाय

अक्सर ब्लॉगर का ये सवाल होता है कि मेरे ब्लॉग का बाउंस रेट हाई क्यों आ रहा है ?जब मैं पूछता हूँ कि कितना बाउंस रेट हैं तो कोई कहता है 80%, कोई कहता है 85% यहाँ तक की कुछ लोग 90% तक भी बाउंस रेट बताते हैं। …भाई ये तो सच में बहुत

क्या होता है बाउंस रेट और एग्जिट रेट – दोनों में अंतर समझिये

ब्लॉग, वेबसाइट या फिर यूट्यूब चैनल, सभी के लिए ‘बाउंस रेट‘ बेहद महत्त्वपूर्ण होता है। सिर्फ ब्लॉग या वेबसाइट बना देने से काम नहीं चलता, हमारे लिए यह भी जानना बहुत जरूरी है की हमारे ब्लॉग एवं वेबसाइट पर रोज कितने विजिटर आ रहे हैं, कौन से देश-शहर से आ रहे हैं, किस सोर्स

‘पर्सनल’ एवं ‘प्रोफेशनल’ ब्लॉग्गिंग – दोनों में क्या है अंतर ?

पखेरू पर आज का विषय है Personal Blogging और Professional Blogging. अधिकांश लोग ब्लॉग को केवल एक रूप में ही देखते हैं। मगर ऐसा नहीं है, ब्लॉग के भी 2 रूप होते हैं जिसे ‘पर्सनल‘ एवं ‘प्रोफेशनल‘ नाम दिया जाता है। ऑनलाइन लेखन का कार्य पहले विदेशों में देखने को मिलता था मगर अब

गूगल ऐड या फेसबुक ऐड दोनों में कौन बेहतर ?

किसी भी व्यापार को सफल बनाने में ‘विज्ञापन‘ के महत्त्व को नज़रअंदाज़ नहीं किया जा सकता। अख़बार के माध्यम से वर वधु की तलाश करना भी विज्ञापन कहलाता है। नौकरी या साक्षात्कार के लिए भी विज्ञापन उपयोगी है। किसी प्रकार की सरकारी सूचना में भी विज्ञापन का इस्तेमाल किया जाता है। हमारे जीवन में

निमकी – हिंदी कहानी

सन 1949-50, गांव के किसान ‘मंगत राम‘ अपनी बेटी ‘निमकी‘ का ब्याह दूर एक दूसरे गांव के किसान पुत्र ‘हरिओम‘ से कर रहे थे।यह वो दौर था जब भारत में बाल विवाह का होना एक सामान्य बात हुआ करती थी। घर में ब्याह के लोक गीतों का कार्यक्रम जारी था; बूढ़ी व जवान महिलाएं

जीवन दर्शन: आनंद एक खोज

20 मार्च से पूर्व हमारे पास वक़्त की बेहद कमी थी।फिर अचानक कुछ ऐसा हुआ कि सरकार ने घोषणा करते हुए 20 से 25 दिनों तक का लंबा वक़्त हमें दे दिया। वहज जानी पहचानी है जिसका नाम है ‘कोरोना’, एक चाइनीज महामारी। इस लंबे वक़्त को पाकर क्या आप उत्साहित हैं ?क्या आप

मज़दूर गाथा: लॉक डाउन, पलायन और हक़ीक़त

देश की राजधानी दिल्ली का कुल क्षेत्रफल 573 वर्ग मील है अर्थात 1,484 स्क्वायर किलोमीटर। जिसमें से 302 वर्ग मील भाग ग्रामीण और 270 वर्ग मील भाग शहरी माना जाता है। आँकड़े को प्रतिशत में बदलें तो करीब 52.71% हिस्सा ग्रामीण और 47.12% हिस्सा शहरी नज़र आता है। ध्यान रहे, 47.12% के शहरी हिस्से

ऑर्गेनिक ज़िन्दगी

श्री ‘कोरोना वायरस’ और सरकारी ‘लॉक डाउन’ के बीच फ़िलहाल मेरा समय बीत रहा है।सच कहूं तो लॉक डाउन मेरे जीवनशैली के अनुरूप है यानि मैं ज्यादा घुमक्कड़ प्रवृत्ति का नहीं हूँ। सामान्यतः मेरा मन बाहर कहीं तफ़रीश करने को करता ही नहीं, फिर वो चाहे शनिवार या रविवार की छुट्टी का दिन ही

बवाल-ए कोरोना: चिंता विमर्श

हाय रे कोरोना उर्फ़ कोविड-19, ई चाइना वाले कब से असली माल बनावे लागे बे ! इनकर डुप्लीकेट अउर नकली माल का सेहत पर आज तक कउनो गलत प्रभाव नाय पड़ा, मगर जबसे “कोरोना” नाम का असली आइटम बनावा है, साला..तबे से सबकर सेहत डांवां-डोल होई गा है। देखो भईया ‘जि-पिंग’ आप असली समान