Author Archive

आँसू – हिंदी कविता

कविता शीर्षक – “आँसू” आँसू के कई हैं रूप जैसे छाँव और है धूप कुछ खुशी के, कुछ गम के आंँसू होते हैं कुछ छलकते हैं, कुछ आँखों को नम करते हैं अत्यधिक खुशी पाकर भी आँखों से आँसू ढलक जाते हैं दर्द का फफोला फूट कर आँसू बनकर बह जाते हैं कुछ आँसू

पंछी की चाह – हिंदी कविता

भला कैद रहकर जीना कौन चाहता है , फिर वो चाहे इंसान हो या एक परिंदा। पिंजरे में कैद एक पंछी आखिर क्या सोचता होगा ? कुदरत ने उसे अनंत आकाश में उड़ने का वरदान दिया मगर इंसानी ताकतों नें उसे कैद कर अपना ग़ुलाम बना लिया। एक कैद पंछी की चाहत को बयां

माँ पर एक हिंदी कविता

माँ का होना हर बच्चे के लिए बेहद जरूरी है क्योंकि बच्चे सबसे ज्यादा अपनी माँ के ही करीब होते हैं। नीचे लिखित पंक्तियाँ माँ की मत्ता और उसका अपने बच्चे के प्रति प्रेम व स्नेह को दर्शातीं हैं। प्रस्तुत है हिंदी कविता “माँ” जिसकी लेखिका हैं रीना कुमारी। हम बेटियाँ ओ मेरी माँ

हाय ये महंगाई – हिंदी कविता

जहां एक ओर इंसान शारीरिक रूप से कमजोर होता जा रहा है तो उसके उलट महंगाई और अधिक मजबूत होती जा रही है। इंसान की उम्र भले लंबी हो न होने परंतु महंगाई विगत कई वर्षों से लंबी होती जा रही है। पखेरू पर आज की कविता का शीर्षक “हाय ये महंगाई” इसी दशा