अजय देवगन जीवनी – फिल्म अवार्ड्स

कृपया अपने मित्रों को भी Share करें

Ajay Devgan Biography in Hindi, हिंदी बॉलीवुड अभिनेता अजय देवगन का जीवन परिचय।
भारतीय हिंदी फिल्म का इतिहास बेहद पुराना है। इस पुराने इतिहास में कई अभिनेता व अभिनेत्री आये और गये जिनके सहयोग Hindi Bollywood आज अपने देश भारत में ही नहीं वरन विदेशों में भी पहचान बना चुका है। अभिनेताओं के क्रम में आज हम बात करेंगे एक ऐसे अभिनेता की जो किसी पहचान के मोहताज नहीं है। जी, हम बात कर रहे हैं Ajay Devgan की !! अजय देवगन एक कलाकार होने के साथ-साथ फिल्म प्रोडूसर और डायरेक्टर भी हैं।

ajay-devgan-biography-in-hindi
अजय देवगन, बॉलीवुड एक्टर

अजय देवगन की पहली फिल्म:

अधिकांश लोग यही जानते हैं कि अजय देवगन ने अपना फ़िल्मी सफर सन 1991 में प्रदर्शित सुपरहिट फिल्म फूल और काँटे से की। मगर ये सच नहीं है, अजय देवगन कि पहली फिल्म का नाम है ‘प्यारी बहना’ जिसमें वे एक बाल कलाकार की भूमिका में रहे। सन 1985 में प्रदर्शित फिल्म Pyari Behna के मुख्य कलाकार मिथुन चक्रवर्ती, विनोद मेहरा और पद्मिनी कोल्हापुरे थे।

प्यारी बहना में अजय बाल कलाकार थे अतः हम ये जरूर कह सकते हैं कि वो फिल्म के मुख्य अभिनेता नहीं थे। इस प्रकार बतौर मुख्य अभिनेता अथवा हीरो के तौर पर 1991 में आयी ‘फूल और काँटे’ ही उनकी पहली फिल्म साबित हुई।

मुख्य बिंदु:

  • अजय देवगन का जन्म 2 अप्रैल, 1969 को हुआ था।
  • अजय देवगन का असल नाम विशाल देवगन है।
  • अजय मूल रूप से पंजाब के हैं।
  • पिता का नाम वीरू देवगन है।
  • माँ का नाम वीणा देवगन है।
  • अजय ने स्नातक की डिग्री मुंबई स्थित मिट्ठी भाई कॉलेज से प्राप्त की

अजय देवगन की शादी:

अजय देवगन का विवाह 24 फ़रवरी, सन 1999 में मशहूर अभिनेत्री काजोल मुखर्जी से हुआ।
पत्नी काजोल हिंदी फिल्मों की एक जानी मानी अभिनेत्री रह चुकी हैं और आज भी वो फिल्मों में सक्रीय भूमिकायें अदा कर रही हैं। अजय देवगन और काजोल ने फिल्म हलचल में पहली बार एक दूसरे के साथ काम किया जो सन 1995 में प्रदर्शित हुयी थी।

अजय और काजोल के 2 बच्चे हैं –
बेटी का नाम है ‘न्यासा देवगन’ जिसका जन्म 20 अप्रैल, 2003 को हुआ।
बेटे का नाम है ‘युग देवगन’ जिसका जन्म 13 सितम्बर, 2010 को हुआ।

अजय देवगन के प्रेम प्रकरण:

1990 की चर्चित हीरोइनों की बात करें तो, उन दिनों करिश्मा कपूर और रवीना टंडन का बोल बाला था। अजय देवगन भले ही एक एक्शन हीरो हों मगर उनका प्रेम संबंध करिश्मा और रवीना दोनों प्रसिद्ध हीरोइनों के साथ रहा। रवीना को डेट करने से पहले अजय करिश्मा को डेट किया करते थे। रवीना और करिश्मा का आपसी रिश्ता भी अजय देवगन की वजह से ख़राब हुआ। चूँकि रवीना भी अजय को पसंद करती थीं अतः करिश्मा के साथ अजय की नज़दीकियां रवीना को रास न आयीं जिसको लेकर करिश्मा-रवीना का आपस विवाद भी हुआ।

अजय देवगन के प्रेम प्रकरण में मनीषा कोइराला का भी नाम आता है। 1993 में आई फिल्म धनवान जिसमें मनीषा के साथ करिश्मा कपूर ने भी काम किया था, के दौरान अजय की नजदीकियां मनीषा कोइराला से बढ़ीं। हालांकि ये खबर सिर्फ मीडिया की सुर्ख़ियों में ही रही। अजय को लेकर करिश्मा काजोल के बीच भी संबंध अच्छे नहीं रहे मगर अंत में अजय ने करिश्मा को छोड़ काजोल मुखर्जी से शादी कर ली। लेकिन अजय देवगन का नाम शादी के कई सालों के बाद फिर अभिनेत्री कंगना रानावत के साथ जुड़ा जो अजय के साथ फिल्म वन्स अपॉन टाइम इन मुंबई में काम कर चुकीं हैं। परदे पर अजय बेशक संजीदा कलाकार हों किन्तु वे निजी जीवन में रोमांटिक रहे हैं।

अजय देवगन के पिता की बातें:

अजय के पिता का नाम है वीरू देवगन जो अपने ज़माने में हीरो बनने का सपना लिए पंजाब से मुंबई आये थे। वीरू जी बताते हैं कि मुंबई आकर मैंने कई परेशानियां झेलीं। मुंबई जैसे बड़े शहर में रहकर मैंने गाड़ियां साफ़ की और छोटे छोटे काम करके अपना गुजरा किया। हीरो बनने का सपना मेरा उस वक्त चूर हो गया जब मैंने देखा कि मुंबई में हीरो वही बन सकता है जो दिखने में बेहद सुन्दर हो, स्मार्ट हो, साफ़ गोर रंग वाला हो। वीरू जी खुद के चेहरे को देखकर निराश हो लिए लेकिन मुंबई से वापस जाना उचित न समझा। वीरू देवगन बेशक हीरो नहीं बने मगर खुद को उन्होंने एक बड़े एक्शन डायरेक्टर के रूप में स्थापित किया।

अजय की सफलता:

अजय देवगन आज जो कुछ भी हैं अपने पिता वीरू देवगन की बदौलत हैं। वीरू जी ने अपने बेटे अजय को हीरो बनाने के लिए हर संभव प्रयास किया। अजय जब केवल 9 साल के थे तभी से वीरू उनको अपने फ़िल्मी सेट पर ले जाना शुरू कर दिए। 14 साल की उम्र तक आते आते अजय अपने पिता वीरू देवगन के काम में हाथ बंटाना शुरू कर दिए। अपने पिता के साथ वे शूटिंग, एडिटिंग, एक्टिंग, एक्शन, डायलाग इत्यादि के गुर सीखते। पिता वीरू देवगन ने बेटे अजय को हीरो बनने के लिए प्रेरित किया जिसका नतीजा आज सामने है। पिता वीरू देवगन ने हीरो बनने की हसरत अपने बेटे अजय देवगन से पूरी की। आज अजय देवगन सिर्फ हीरो नहीं बल्कि सुपरहीरो हैं, यानि बॉलीवुड के सफल कलाकार और सुपरस्टार हैं।

फूल और काँटे:

ये तो हम जान गए कि Ajay Devgan की पहली फिल्म बतौर मुख्य कलाकार फूल और काँटे थी। मगर ये फिल्म अजय को कैसे मिली ? आप शायद न जानते हों, Film Phool Aur Kante सबसे पहले अक्षय कुमार को दी गयी थी। अक्षय कुमार इस फिल्म को करने के लिए तैयार थे और कुछ गाने भी इसके रिकॉर्ड कर लिए गए थे। अचानक एकदिन अक्षय के पास फ़ोन आता है और उनको ये कहा जाता है कि फूल और काँटे फिल्म किसी दूसरे एक्टर को दे दी गयी है अतः आप कल से मत आइये।

आपको बता दें कि अजय देवगन अपने कॉलेज के दिनों में पढ़ाई के साथ फिल्म असिस्टेंट का भी काम करते थे। प्रसिद्ध फिल्म डायरेक्टर शेखर कपूर की फिल्म दुश्मनी में अजय देवगन असिस्टेंट भी थे। बात आगे बढ़ती है, एक दिन फिल्म डायरेक्टर सदेंश कोहली जिनको कुकू कोहली कहकर भी पुकारा जाता है वे अजय के पिता वीरू देवगन के साथ बैठे हुए थे।

पिता वीरू देवगन, अजय को कुकू कोहली से मिलवाते हुए कहते हैं की ये तुमको अपनी फिल्म फूल और काँटे में हीरो लेना चाहते हैं। अजय उस वक़्त केवल 18 साल के थे। पिता की बात सुन अजय फिल्म करने को मना कर देते हैं और कहते हैं कि अभी मेरी उमर क्या है फिल्म करने की। लेकिन पिता वीरू की बात को मना न करते हुए वे फिल्म करने को राजी हो जाते हैं। इस प्रकार फिल्म फूल और काँटे से अक्षय कुमार बाहर हो जाते हैं और अजय देवगन फिल्म के लीड एक्टर अर्थात हीरो बन जाते हैं।

मोटरसाइकिल वाला एक्शन:

फिल्म फूल और काँटे का एक एक्शन सीन है जिसमें अजय देवन 2 बाइक पर पैर रखकर कॉलेज में एंट्री करते हैं। उस ज़माने में VFX, Graphics जैसी Technology नहीं थी अतः इस सीन को कैसे शूट किया जाय यह काफी मुश्किल हो गया था। पिता वीरू देवगन बेटे अजय की फ़िल्मी एन्ट्री को यादगार बनाना चाहते थे इसलिए उन्होंने इस सीन को शूट करने के लिए पूरा जोर लगा दिया।

बिना किसी टेक्नोलॉजी की मदद लिए यह सीन शूट किया गया जो फिल्म में जैसा दिखता है वैसा ही है। अजय बचपन से एक्शन देखते आये थे, मगर उनके लिए भी यह करना बहुत मुश्किल था क्योंकि इसमें पैर के टूटने का भी खतरा था। पापा की मदद और अजय की हिम्मत के आगे हर डर कम पड़ गया और वो खतरनाक सीन भी पहले शॉट में ओके हो गया। आज तो एक्शन करना बेहद आसान हो चला है मगर अजय की मोटरसाइकिल वाला एक्शन सीन आज भी Bollywood के Top Action Seen में शुमार है।

1 ) अजय देवगन हीरो नहीं डायरेक्टर बनना चाहते थे।
2 ) अजय के दोस्त आज भी उन्हें VD कहकर बुलाते हैं।
3 ) फिल्म में आने से पहले अपना नाम विशाल से अजय खुद कर लिया था।
4 ) कॉलेज के दिनों में अजय, शेखर कपूर के साथ असिस्टेंट डायरेक्टर रहे।
5 ) अजय को एक्टिंग करना रोशन तनेजा ने सिखाया था।
6 ) अजय के सांवले रंग को देखकर लोग ये कहते कि इसे कौन हीरो बनायेगा।
7 ) अमिताभ बच्चन ने अजय को बॉलीवुड का डार्क हॉर्स कहा था।
8 ) फिल्म खुदा गवाह में अमिताभ श्रीदेवी के अपोजिट अजय देवगन को लिया गया था जो बाद में नागार्जुन को मिला।
9 ) अजय भगवान शिव के भक्त हैं और अपनी छाती पर शिव का एक टैटू भी बनवा रखा है।
10 ) फिल्म कारन अर्जुन में सलाम का रोले पहले अजय को ही मिला था।
11 ) अजय जूते और सन-ग्लासेस के शौक़ीन हैं।
12 ) अजय देवगन खुद कभी अपनी फिल्में नहीं देखते।
13 ) सलमा और संजय दत्त, अजय के खास दोस्त हैं।

अवार्ड सम्मान:

क) नेशनल अवार्ड बेस्ट एक्टर: अजय देवगन, फिल्म ज़ख्म 1998
ख) नेशनल अवार्ड बेस्ट एक्टर: अजय देवगन, फिल्म दी लेजेंड ऑफ़ भगत सिंह 2002
ग) फिल्म फेयर अवार्ड बेस्ट मेल डेब्यूट: अजय देवगन, फिल्म फूल और काँटे 1991
घ) फिल्म फेयर अवार्ड बेस्ट एक्टर:
अजय देवगन, फिल्म दी लेजेंड ऑफ़ भगत सिंह 2002
च) फिल्म फेयर अवार्ड बेस्ट एक्टर: अजय देवगन, फिल्म कंपनी 2002
छ) फिल्म फेयर अवार्ड बेस्ट परफॉरमेंस इन नेगेटिव रोल: अजय देवगन, फिल्म दीवानगी 2002
झ) बंगाल फिल्म जनरलिस्ट एसोसिएशन अवार्ड बेस्ट एक्टर: अजय देवगन, फिल्म ज़ख्म 1998
त) बंगाल फिल्म जनरलिस्ट एसोसिएशन अवार्ड बेस्ट एक्टर: अजय देवगन, फिल्म दी लेजेंड ऑफ़ भगत सिंह 2002
थ) प्रोडूसर्स स्किल्ड फिल्म अवार्ड्स बेस्ट एक्टर इन कॉमिक रोल: अजय देवगन, फिल्म आल दी बेस्ट 2009
द) ज़ी सिने अवार्ड्स बेस्ट एक्टर इन नेगेटिव रोल: अजय देवगन, फिल्म दीवानगी 2002
ध) स्टारडस्ट अवार्ड स्टार ऑफ़ दी ईयर: अजय देवगन, फिल्म कंपनी 2002
न) स्टारडस्ट अवार्ड स्टार बेस्ट एक्टर: अजय देवगन, फिल्म आल दी बेस्ट 2009
य) स्टारडस्ट अवार्ड स्टार बेस्ट एक्टर: अजय देवगन, फिल्म वन्स अपॉन अ टाइम इन मुंबई 2010
र) स्टारडस्ट अवार्ड स्टार ब्रेक थ्रू परफॉरमेंस:
अजय देवगन, फिल्म शिवाय 2017
ल) स्क्रीन अवार्ड्स बेस्ट एक्टर:
अजय देवगन, फिल्म ज़ख्म 1998
व) स्क्रीन अवार्ड्स बेस्ट एक्टर: अजय देवगन, फिल्म कंपनी 2002
श) स्क्रीन अवार्ड्स बेस्ट एक्टर इन नेगेटिव रोल: अजय देवगन, फिल्म दीवानगी 2002

लेखक:
रवि प्रकाश शर्मा


कृपया अपने मित्रों को भी Share करें
कृपया नीचे अपना Comment जरूर दें :

Post A Comment

Your e-mail address will not be published. Required fields are marked *