Jagga Jasoos – हिंदी फिल्म समीक्षा, जग्गा जासूस मूवी रिव्यू

हिंदी फिल्म जग्गा जासूस सिनेमा घरों में प्रदर्शित हो चुकी है। Jagga Jasoos बॉक्स ऑफिस पर कैसा कमाल दिखा पायेगी यह तो आने वाले कुछ हफ़्तों में ही पता चलेगा पर बॉक्स ऑफिस को फिल्म जग्गा जासूस से बड़ी उम्मीदें हैं। यह आपको बता दें कि कटरीना कैफ और रणबीर कपूर का रिलेशनशिप तो वास्तविक जीवन में ख़तम हो चुका है पर ये बात गौर करने वाली होगी की यह ख़ूबसूरत जोड़ी का परदे पर अपना रिलेशनशिप बना पायेगी।

जग्गा जासूस समीक्षा - हिंदी मूवी रिव्यू -कलाकार – रणबीर कपूर, कटरीना कैफ, सौरभ शुक्ला

-निर्देशक – अनुराग बासु

-संगीत – प्रीतम

-टाइप – म्यूजिकल

-अवधि – 2 घंटा 41 मिनट

-सर्टिफिकेट – U/A

इस फिल्म के निर्देशक अनुराग बासु और मुख्य कलाकार रणबीर कपूर ने इससे पहले साथ मे फिल्म ‘बर्फी’ बनाई थी। जिसे दर्शकों से दिल खोल के प्यार मिला तो साथ ही साथ फिल्म ने कई अवार्ड भी अपने नाम दर्ज करवाए। शायद यही सोच कर अनुराग बासु ने 4 साल पहले फिर रणबीर को ले कर फिल्म बनाने की योजना बनाई । हां जनाब जग्गा जासूस 4 साल पहले बननी शुरू हो गयी थी, खैर छोड़िए ये बाते फिल्म अब (14 जुलाई 2017) रिलीज़ हो चुकी है। रणबीर कपूर इसमें कई चीज़े पहली बार कर रहे है जैसे इस फिल्म के साथ वो एक कलाकार ही नहीं प्रोड्यूसर के तौर पर भी जुड़े हुए हैं। कटरीना से ब्रेकअप के बाद उनकी और कटरीना की जोड़ी भी पहली बार बनी है तो देखना दिलचस्प होगा कि दोनों की जोड़ी ब्रेकअप के बाद जमती है या नहीं।

जग्गा जासूस की कहानी:

फिल्म की ज्यादातर कहानी जग्गा (रणबीर कपूर) और श्रूति सेन गुप्ता (कटरीना कैफ) के इर्द – गिर्द ही घुमती है। जग्गा जो बोलते हुए हकलाता है इसलिए उसके पिता उसे कहते है कि अगर वो अपनी बात गाते हुए बोलेगा तो पूरी बात सही ढंग से बोल पायेगा। स्कूल के वक़्त ही जग्गा एक केस भी सुलझा देता है; वो भी ऐसा वैसा नहीं मौत का केस, लेकिन तभी कुछ ऐसा होता है की उसके पिता कहीं चले जाते हैं ; जिसकी वजह से जग्गा को बोर्डिंग स्कूल जाना पड़ता है। एक सिलसिला जग्गा और उसके पिता के बीच में चलता रहता है, वो ये कि जग्गा के हर जन्म दिन पर उसके पिता उसके लिए एक विडियो टेप भेजते हैं लेकिन जग्गा अपने पिता से मिलाना चाहता है। इसी खातिर वो हमेशा उनकी तलाश मे लगा रहता है, तभी एंट्री होती है पत्रकार श्रूति सेन गुप्ता की जो जग्गा की मदद करती है उसके पिता को तलाश करने में। जग्गा और श्रूति कामयाब हो पाते हैं या नहीं , जग्गा को उसके पिता मिलते हैं या नहीं और अगर मिलते हैं तो किस हाल में ये जानने के लिए आपको सिनेमा हॉल जाना पड़ेगा।

फिल्म में कलाकारों का अभिनय:

“हकले” के किरदार में रणबीर कपूर नें फिर साबित किया है की वो लम्बी रेस के घोड़े हैं ; जैसा किरदार मिल जाए वैसा ही खुद को बना लेते हैं। श्रूति सेन के किरदार में कटरीना सुन्दर नजर आई हैं और रणबीर के साथ उनकी जोड़ी इस बार भी खूब ज़मी है। सौरभ शुक्ला भी इस फिल्म में वही पुराना जॉली LLB व् बर्फी वाला अंदाज़ लिए उम्दा एक्टिंग करते नजर आये हैं। शुक्ला नें अपना पूरा 100 प्रतिशत दिया है इस फिल्म को और हमेशा की तरह छा गए हैं अपने किरदार में।

Jagga Jasoos Movie Review फिल्म समीक्षा:

फिल्म को बनाने में 4 साल लग गए लेकिन सच में फिल्म को देख कर लगता है कि ऐसी फिल्म समय मांगती है। अनुराग बासु का निर्देशन कमाल का है साथ ही लोकेशन और वी.एफ.एक्स का तालमेल भी बखूबी है जो बहुत ही उम्दा लगता है। फिल्म की स्क्रिप्ट और डायलाग्स भी अच्छे है, स्क्रिप्ट को तो इतने अच्छे ढंग से लिखा गया है कि कब वर्तमान और कब फ्लैशबैक पता ही नहीं चलता। फिल्म में कमी रही तो इसकी लम्बाई जिसे कम किया जा सकता था लेकिन एडिटर अकिव अली नें सही ढंग से एडिट नहीं किया या फिर अनुराग नें करने नहीं दी? ये बात तो वो ही जानें। आप बिना बात की एक लम्बी फिल्म देखते हुए जब आखिर में पहुँचते हैं तो फिर धोखा हो जाता है, क्योकि फिल्म का क्लाईमेक्स आधा अधुरा सा है। जो बिलकुल बेकार लगता है और फिल्म को भी कमजोर बनाता है क्योंकि कहते है ना अंत भला तो सब भला पर फिल्म जग्गा जासूस का अंत अपेक्षाकृत नहीं है । फिर भी आप रणबीर कपूर या कटरीना के प्रशंशक हैं तो टिकट कटवा लीजिये ये दोनों आपको निराश नहीं करेंगे; क्योंकि इस फिल्म में अदाकारी सबकी जबरदस्त है और यही फिल्म जग्गा जासूस की जान है जो इसे आगे तक ले जाएगी।

जहाँ तक रेटिंग का प्रश्न है – मैं इसे 3.5 अंक देना चाहूंगा।