हिंदी काव्य – आज फिर एक बुद्धा की तलाश है

कृपया अपने मित्रों को भी Share करें

आज फिर एक बुद्धा की तलाश है !!

Aaj-Fir-Ek-Buddha-Ki-Talash-Hai

ये नए युग का परावर्तन तो नहीं ,
कि झूठ भी यथार्थ बन जाता है ,
नालंदा के ज्ञानद प्रांगण में ,
आज अज्ञानी भी ज्ञानी का पद पा जाता है ।

सच को सच कहने के लिए ,
आज फिर एक बुद्धा की तलाश है ।

ये महाबोधि की शिराओं में ,
कौन सी गरम हवा बहने लगी है ,
जो कभी सभ्यता रचने की बातें कहती थी ,
आज गोधरा के साथ उसकी भी लाश बहने लगी है ।

जिजीविषा की हद जानने के लिए ,
आज फिर एक बुद्धा की तलाश है ।

कौन नरेश है कौशल का अब ,
जो प्रजा के लिए रोता है ,
बाण लगे शब्दों का भी ,
तो अपने रक्त से उसे धोता है ।

ऐसे राज्य की कल्पना के लिए ,
आज फिर एक बुद्धा की तलाश है ।

ज्ञान दान दीक्षा की झोली खाली ही रह जाती है ,
क्यों इस व्यथा पे भी ये वसुंधरा चुप रह जाती है ?
जो ज्योति हुई प्रज्वलित यहाँ युगों पहले ,
आज वो अन्धकार से क्यों डर जाती है ?

वही चिर ज्योति पाने को ,
आज फिर एक बुद्धा की तलाश है ।

ये नदी नालों में कुम्हलाए पलाश नहीं ,
ये दम तोड़ती इच्छाओं की कतार है ,
जो पौरुष मृत्यु को भी जीत लाता था ,
आज वही वीभत्स घटनाओं का क्यों आधार है ?

शक्ति की परिभाषा समझने को ,
आज फिर एक बुद्धा की तलाश है ।

ये शरीर नहीं शाश्वत, ना ही ये प्राण शाश्वत है ,
इस दुर्बोध संसार में बस ज्ञान शाश्वत है ,
जीवन की सफलता इसको जीने में है ,
बस यही एक सत्य शाश्वत है ।

जीवन का सारांश समझने के लिए,
आज फिर एक बुद्धा की तलाश है ।

लेखक:
सलिल सरोज


कृपया अपने मित्रों को भी Share करें
कृपया नीचे अपना Comment जरूर दें :