आँसू – हिंदी कविता

कृपया अपने मित्रों को भी Share करें

कविता शीर्षक – “आँसू”




Aansu-Hindi-Kavita-Poem आँसू हिंदी कविता

आँसू के कई हैं रूप
जैसे छाँव और है धूप

कुछ खुशी के, कुछ गम के आंँसू होते हैं
कुछ छलकते हैं, कुछ आँखों को नम करते हैं

अत्यधिक खुशी पाकर भी
आँखों से आँसू ढलक जाते हैं
दर्द का फफोला फूट कर
आँसू बनकर बह जाते हैं

कुछ आँसू दिखावे के खातिर
मगरमच्छ के आँसू बन जाते हैं
यारो सब कह जाते हैं यह आँसू

आँसू , आँसू हैं, नहीं हैं पानी
दिल का दर्द बता जाते हैं
कह जाते हैं बिन कहे कहानी

रीना कुमारी
(तुपुदाना) रांची झारखंड


कृपया अपने मित्रों को भी Share करें