ग़ज़ल – अच्छा था मेरे दर से मुकर जाना तेरा

कृपया अपने मित्रों को भी Share करें

achha-tha-mere-dar-se-mukar-jana-tera

अच्छा था मेरे दर से मुकर जाना तेरा
आसमाँ की गोद से उतर जाना तेरा

तू लायक ही नहीं था मेरी जिस्मों-जाँ के
वाजिब ही हुआ यूँ बिखर जाना तेरा

मेरी हँसी की कीमत तुमने कम लगाई
यूँ ही नहीं भा गया रोकर जाना तेरा

तुझे हासिल थी बेवजह दौलतें सारी
अब काम आया सब खोकर जाना तेरा

क्या आरज़ू करूँ तेरी तंगदिली से मैं
क्या दे पाएगा बेवफा होकर जाना तेरा

मैं सोचती रही कि हो जाऊँ तेरी फिर से
बुत बना गया हर बात पे उखड़ जाना तेरा

लेखक:
सलिल सरोज
मुखर्जी नगर, नई दिल्ली


कृपया अपने मित्रों को भी Share करें
कृपया नीचे अपना Comment जरूर दें :