आधुनिक भारत Modern India – इंडिया में आधुनिकता Archive

Whatsapp Quotes? Join Whatsstaus.com – हिंदी व अंग्रेजी में अच्छे व्हाट्सएप्प कोट्स और मैसेज बिलकुल फ्री

“Digital India” की मुहीम और भारत की भागीदारी, भारत अब केवल कृषि प्रधान देश नहीं रह गया बल्कि विश्व के अन्य अग्रणी देशों के साथ भारत भी तेज़ी से अपने कदम आगे बढ़ा रहा है, ऐसे में यह कहना गलत नहीं होगा की हिन्दुस्तान भविष्य में एक महाशक्ति के रूप में उभरकर सामने आएगा।

जियो के 1500 रुपये वाले फ़ोन में बिहार के लोग व्हाट्सऐप चला रहे हैं

व्हाट्सऐप फेसबुक की कितनी अहमियत है हम भारतीयों की जिंदगी मे सभी जानते हैं। कई लोगों को चलाना नहीं है पर ऑफिस का बॉस कह रहा है की चलाओ। कही पर इसके बिना काम ही नहीं चल रहा है, अब क्या करें हर वक़्त कॉन्टैक्ट में जो रहना है। फालतू वाले अध्यापक भी तो

गाय का कटना रुकना चाहिए

गाय का कटना रुकना चाहिए, लेकिन भारत एक ऐसा देश है जहाँ शुरु से ही अल्पसंख्यक लोगो के हित की बात ज्यादा होती है। बहुसंख्यक लोग अगर कोई फैसला करें कि ये नहीं होना चाहिए तो उस फैसले पर बहस तो दूर सीधा-सीधा कह दिया कह जाता है की ये हमारी आज़ादी पर हमला

कितना बदल गया इंसान

” देख तेरे संसार की हालत क्या हो गयी भगवान् कितना बदल गया इंसान, कितना बदल गया इंसान सूरज न बदला, चाँद न बदला, न बदला रे आसमान कितना बदल गया इंसान, कितना बदल गया इंसान। “ ऊपर अंकित पंक्तियाँ सुप्रसिद्ध लेखक , कवि व गीतकार “प्रदीप” की हैं जिसे उन्होंने सन 1954 में

लड़की के बैग में मिले 3 इस्तेमाल किये कंडोम – मिलने पर मां ने किया केस, जिसपर अदालत का फैसला ये आया

भारत में महिलाओं के ऊपर अपराध के मामले बेशक बढ़ रहे हो लेकिन आप माने या ना माने झूठे रेप केस , दहेज़ आदि के भी कई ऐसें मामले सामने आते हैं जो ये साबित करते है कि जरुर नही हर वो शख्स आरोपी ही हो जिसपर एक महिला या उसके घरवाले ये आरोप

बीएचयू छात्राओं का दिशाहीन आंदोलन

बीएचयू पर एक नज़र: बनारस हिन्दू यूनिवर्सिटी की स्थापना सन 1916 में पंडित मदन मोहन मालवीय द्वारा की गयी। अतीत में बीएचयू को सेंट्रल हिन्दू कॉलेज के नाम से भी जाना जाता था। बनारस हिन्दू यूनिवर्सिटी का परिसर करीब 1300 एकड़ में फैला हुआ है, इतने बड़े ज़मीन का अनुदान कशी नरेश नें प्रदान

ब्लू व्हेल और हम

कांधला में गुरूवार को कक्षा 7वीं के एक क्षात्र नें ट्रेन से कट कर आत्महत्या कर ली। वजह का जब पता चला तो “ब्लू व्हेल” नामक खेल का नाम सामने आया। हिन्दुस्तान समेत अन्य कई देशों में भी ब्लू व्हेल मोबाइल गेम से हो रही मौतें चिंता का विषय बनीं हुयी हैं। देश के

ऑनलाइन से ऑफलाइन होता समाज

आज कल आप इंटरनेट, फेसबुक, वाटसऐप्प या ट्विटर आदि का जरुरत से ज्यादा उपयोग तो नहीं करने लग गए ? क्या आपको भी हमेशा स्टेटस चेक करने की या ऑनलाइन रहने की बीमारी हो गयी है ? यह समस्या केवल युवाओं में नही बल्कि बच्चों, बुजुर्गो, गृहणियों सबको अपनी चपेट में ले रही है।

एक बार अपने बच्चो के स्कूल चले जाईए

गुरुग्राम के रेयान इंटरनेशनल स्कूल में जो हुआ वो स्कूल के ही किसी कर्मचारी नें किया। न्यूज़ मे चल रही खबरों के मुताबिक बस कंडक्टर जो अभी पुलिस की गिरफ्त मे है उसने 7 साल के प्रद्युमन को अपनी हवस का शिकार बनाने की कोशिश की। उस मासूम ने विरोध किया तो ड्राईवर ने

आखिर क्यों जानलेवा है ये मछली ‘ब्लू व्हेल’ ?

रूस के एक स्टूडेंट द्वारा 4 साल पहले बनाया गया गेम दुनिया भर में खलबली मचा रहा है या यूँ कहें कि खौफ का पर्याय बन चुका है । वर्चुअल दुनिया में “ब्लू व्हेल गेम” या “ब्लू व्हेल चैलेंज” रूस से शुरू होकर ब्राजील, चीन, इटली, अर्जेंटीना आदि होते हुए यूरोपीय देशों में पहुंचा,