मुंबई एक नहीं कई परीक्षायें लेती है – ये कहना है उभरती गायिका अमृता तालुकदर का

आमची मुंबई जो मायानगरी या सपनों कि नगरी के नाम से भी जाना जाता है। ये भारत का वो शहर है जो कभी नहीं सोता यहाँ दिन में भी उजाला है और रात में भी। सपनों कि नगरी यूँ ही नहीं कहा जाता इसे बल्कि ये हक़ीक़त है की मुंबई में प्रतिवर्ष सैकड़ों प्रतिभायें अपनी आँखों में सपने लिए यहाँ अपनी किसमत आजमानें आते हैं। मुंबई सिर्फ भारत का आर्थिक शहर नहीं बल्कि अपनें सपनों को जीने का शहर भी है। जो डट गया समझो कर गया और जो डर गया समझो मर गया।

मैं विभू राय आज ऐसी शक्सियत को आपसे रूबरू कराऊंगा जो अपनी आँखों में सपने लेकर छत्तीसगढ़ से इस मायानगरी मुंबई में पधारीं ।

उनका नाम है “Amrita Talukder“, संगीत में रूचि रखने वाला हर शख्स Salvation Regained नामक म्यूजिक बैंड से जरूर परिचित होगा।

अमृता तालुकदर गायिका

अमृता तालुकदर Salvation Regained Music Band की प्रमुख गायिका हैं। मुंबई से आने वाले इस बैंड को अमृता व् उनके साथी विवेक और पियूष नें मिलकर शुरु किया था जो आज अपनी पहचान सिद्ध कर चुका है; आज की तारीख में बहुत लोग Salvation Regained से जुड़ चुके हैं। Amrita Talukder का एक अंग्रेजी गीत सिल्की सैंड (silkysand) online Youtube पर आ चुका है। Tirupati Telefilms के अंतर्गत जल्द ही एक हिंदी Duet Song ‘तेरा साथ’ भी आने वाला है। Sony TV के मशहूर Singing Show ‘Indian Idol’ से अपने सफ़र की शुरूआत करने वाली अमृता तालुकदर को एक या दो नहीं बल्कि कई भाषाओं में गाने का महारत हासिल है। अंग्रेजी, हिंदी, मराठी, बंगाली, असमिया, छत्तीसगडी जुबान में भी वो बड़ी सरलता से गीत गा लेतीं हैं। भारत की इस उभरती हुयी गायिका Amrita Talukder से बात चीत के कुछ अंश मैं यहाँ पखेरू पर प्रस्तुत करना चाहूंगा। विभू राय के सवाल और अमृता के जवाब आपको जरूर पसंद आयेंगे।

संगीत आपके लिए क्या है ?

संगीत मेरे लिए खाना-पीना और सांस की तरह है। हर जगह है संगीत, हर एक आवाज संगीत है, और शांति में भी संगीत है।

छत्तीसगढ़ से मुंबई कब और क्यों आना हुआ ?

बहुत लम्बी कहानी है छोटा करके बताती हूँ , मैं मुंबई कई बार आ चुकी थी लेकिन संगीत के लिए मुंबई 2012 में ‘इंडियन आइडल’ के थिएटर राउंडस के लिए आई। उसके बाद 2015 में कई बार वापस गई फिर आई आखिर में मुंबई नें मुझे अपना लिया।

साल्वेशन रिगैनड (Salvation Regained) बैंड से आप शुरुआत से जुड़ीं रहीं या बैंड बन चुका था तब आप इससे जुड़ीं ?

साल्वेशन रिगैनड (Salvation Regained) बैंड को आप मेरा बच्चा कह सकते हैं। हम 3 दोस्त विवेक , पियूष और मैंने इस बैंड की शुरुआत की थी और फिर धीरे-धीरे इसमें लोग जुड़ते गये।

संगीत से अलग आप लेखन भी करती हैं मैंने खुद पढ़ी है “भूख सताती है आजकल” और भी आपकी कई कवितायेँ, तो ये बतायें आप जब स्टेज पर होती हैं तब कभी अपनी लिखी हुयी कोई कविता पढ़ी या नहीं ?

जब म्यूजिकल शो होते हैं तो वहां कभी मौका नहीं मिलता अपनी कविता सुनाने का लेकिन हां कॉलेज के वक़्त एक इंटर-कॉलेज बेस्ट पोएट (poet) प्रतियोगिता में भाग लिया था जिसमें मशहूर हास्य कवि ‘पदमश्री सुरेन्दर दुबे’ जी जज की भूमिका में शामिल हुए थे। उसमें मुझे इंग्लिश वर्ग में बेस्ट Poet का अवार्ड मिला था।

आपने कोई म्यूजिक एल्बम या सिंगल किया है या आगे करने वाली हैं तो उसके बारे में बतायें ?

जी हां , हाल में ही मेरा एक इंग्लिश सिंगल “सिल्की सैंड Silky Sand” यू ट्यूब पर रिलीज़ हुआ है। उसके अलावा एक हिंदी डुएट गीत “तेरा साथ” जल्द ही आने वाला है जिसके प्रोडक्शन का जिम्मा तिरुपति टेली फिल्म्स उठा रही है। सिंगल से अलग मैंने 2 टीवी सीरियल के टाइटल ट्रैक गाये है; एक है “संयुक्त” जो जी टीवी पर सितम्बर 2016 में शुरू हुआ था और दूसरा है “एक विवाह ऐसा भी” ये इसी साल यानि फ़रवरी 2017 में एंड टीवी (&TV) पर शुरू हुआ और अभी भी चल रहा है।

आजकल हर चैनल्स पर सिंगिंग शो आ रहे हैं कोई ना कोई जीत भी रहा है पर ज्यादातर लोग नज़र नहीं आते जीतने के बाद। मुंबई में इतनी ज्यादा भीड़ है
क्या ?

जी हां , बहुत भीड़ है और यकीन मानिए रोज़ यहाँ हजारों लोग अपनी किस्मत आजमाने आते हैं। सब अपने आप में बेहतर होते हैं लेकिन मुंबई या मैं मानती हूँ किसी भी फील्ड में आपका कल मायने नहीं रखता। कल आपने क्या किया, आप कहाँ जीते ये आपकी पहचान बन सकता है लेकिन निरंतर बने रहने के लिए आपको किसमत, मेहनत से थोड़ी ज्यादा मेहनत और कुछ अलग बात की जरुरत है तभी आप इस भीड़ में सबको नजर आयेंगे।

ज़िन्दगी में सबसे मुश्किल काम है खुद को सकारात्मक रखना तो जब भी नाकारात्मक सोच दिमाग में आती है तो उससे खुद को कैसे अलग करती हैं ?

मैं लिखती हूँ या कोई गाना बना डालती हूँ ; आप मुझे उदास शायद कभी पाएंगे भी नहीं। मैं अपने अन्दर नाकारात्मक ऊर्जा को ज्यादा देर तक रख ही नहीं सकती। जब भी कभी निराशा ज्यादा होती है तो लिखना बहुत काम आता है।

अपने देश भारत में आपको एक दो ही लोग मिलेंगे ऐसे जिनको जो करना है शुरुआत से वही करें। आप संगीत में ही देखिये शंकर महादेवन जी सॉफ्टवेयर इंजीनियर की नौकरी छोड़ के संगीत में आये और प्रीतम जी नें तो एम.एस.सी. की पढाई ही छोड़ दी ; आपके साथ ऐसा कुछ हुआ क्या ?

जी फ़िलहाल तो मैंने हाल ही में डबल एम.ए. पूरा किया है। घर वाले चाहते थे कि मैं इंजीनियर बन जाऊं लेकिन कॉलेज में मैंने स्ट्रीम अलग कर दिया फिर उन्हें लगा कि शायद मनोचिकित्सक (Psychologist) बनेगी बेटी, पर अंत में मैं संगीत में ही आ गयी। लेकिन मेरी पढाई नें मेरा बहुत साथ दिया मेरा इस सफ़र में।

जो लोग मुंबई आना चाहते हैं उन्हें आप क्या कहना चाहेंगीं ?

मुंबई एक नहीं कई तरह की परीक्षा लेती है ; यहाँ काम बहुत है और लोग उससे भी कही ज्यादा हैं, पर लोग इच्छा को बनाये नहीं रख पाते। यहाँ आने के लिए पहले से तैयारी करके आयें तो बेहतर होगा और हां .. बहुत ज्यादा धैर्य और हिम्मत चाहिए। आप हमेशा एक स्थिति में नहीं रहेंगे फिर चाहे आप ऊपर हों या नीचे आपको सब कुछ संभालना होगा, सफलता विफलता दोनों।

आप दिल्ली आये हो तो एक बात वो कहें जो आपको अच्छी लगी हो और दूसरी बात जिसे आप बदलना चाहती हों ?

दिल्ली बहुत खुबसूरत शहर है जो बात मुझे सबसे ज्यादा अच्छी लगी वो है खाना बहुत ही अच्छा मिलता है (हँसते हुए) और कोई बात जो मैं बदलना चाहूं तो वो ये है कि रात के 9 बजते ही सब सूना सा लगने लगता है।

स्क्रिप्ट राइटिंग भी करती हैं आप कोई स्क्रिप्ट लिखी है या आगे कुछ सोचा है लिखने को ?

जी हां, वैसे तो मैं बहुत कम दूसरों के लिए लिखती हूँ। मैंने म्यूजिक विडियो के लिए स्क्रिप्ट लिखी है और उसके अलावा एक ऐड के लिए भी मेरे लिखे हुए सवांद को एक बंगला फिल्म के लिए पसंद किया गया है। मैंने लिरिक्स भी लिखे हैं कुछ गानों के सबकी दुआ और भगवान का आशीष रहा तो और भी लिखना होगा।

 

तो ये थे मेरे और अमृता के बीच हुयी बातचीत के कुछ प्रमुख अंश जिसमें उन्होंने मेरे पूछे गये सवालों का बड़ी ईमानदारी से जवाब दिया। गीत संगीत की इस दुनियां में हम सबकी शुभकामनायें अमृता तालुकदर के साथ हैं। मुझे उम्मीद है आप जल्द ही पार्श्वगायिका के रूप में स्थापित होंगी और सभी संगीत प्रेमियों को एक नई आवाज़ सुनने को मिलेगी।

 

अमृता तालुकदर द्वारा गाये हुए गीतों, आने वाली एल्बम इत्यादि की जानकारी लेने के किये आपको जुड़े रहना होगा – Amrita Talukder – Facebook Fan Page and listen her English Single Silky Sand on Youtube.

 

तो आज के हमारे इस विशेषांक में हमनें बात की उभरती हुई प्रतिभावान गायिका Amrita Talukder से – मैं विभू राय पखेरू की तरफ से ।