कथा कहानी Hindi Stories – भारतीय हिंदी कहानियां Online Archive

हिंदी कहानी – डाइवोर्स

कब शादी हुई थी आपकी ? .. वकील ने ‘विभा’ की ओर देखते हुए ये सवाल किया।अह्ह..यही कोई डेढ़ साल पहले, ..विभा ने बड़े अधीर मन से; न चाहते हुए जवाब दिया। क्यों डाइवोर्स देना चाहती हैं आप ? ..विभा, ..मन में इस प्रश्न का उत्तर खोज ही रही थी कि, वकील ने कहा

सत्य घटना पर आधारित हिंदी कहानी – अंतिम इच्छा

सड़क किनारे एक घना नीम का पेड़ और उसके नीचे एक ‘साईकल रिपेयर‘ की दुकान। ..दुकान के ठीक दाहिने हाँथ पर कुछ दूरी पर स्थित एक ‘चाय की झोपड़ी‘ । सड़क के दोनों ओर खेत-खलिहान व ग्रामीण लोगों के कच्चे-पक्के मकान। वहीं पर नज़दीक स्थित एक प्राइमरी पाठशाला की आखरी घंटी बजती है और

निमकी – हिंदी कहानी

सन 1949-50, गांव के किसान ‘मंगत राम‘ अपनी बेटी ‘निमकी‘ का ब्याह दूर एक दूसरे गांव के किसान पुत्र ‘हरिओम‘ से कर रहे थे।यह वो दौर था जब भारत में बाल विवाह का होना एक सामान्य बात हुआ करती थी। घर में ब्याह के लोक गीतों का कार्यक्रम जारी था; बूढ़ी व जवान महिलाएं

लघु कथा – बिरेंदर वैज्ञानिक

हर रोज की तरह राम अवतार अपने घर पर स्कूली बच्चों को ट्यूशन पढ़ा रहे थे। तभी अचानक द्वार पर एक व्यक्ति अपने 13 वर्षीय पुत्र के साथ हाज़िर होता है। द्वार पर पधारे अंजाने व्यक्ति को देखकर राम अवतार उससे सवाल करते हैं – जी आप कौन हैं ? व्यक्ति अपना परिचय देते

हिंदी लघु कथा – कमला

सन 1990, तारकेश्वर दुबे भारतीय रेलवे में सीनियर सेक्शन इंजीनियर के पद से रिटायर हुए थे।रेलवे की नौकरी से सेवा निवृत होने के उपरांत उन्होंने घर में बच्चों को ट्युशन पढ़ाने का जिम्मा संभाला। हालांकि तारकेश्वर जी की पत्नी ‘कमला’ ये नहीं चाहती थी कि उनके पति एक लंबी सरकारी नौकरी करने के बाद

हिंदी कहानी – ईमान

सर्दी का मौसम शुरू होते ही राम ने सोचा क्यों न मैं माता-पिता को बताकर शहर की ओर काम के लिए निकल लू, महंगाई के मारे तो घर का खर्च अच्छे से नहीं चल पाता। पिता जी भी बूढ़े हो चुके हैं, मोची के काम से तो घर का राशन बड़ी मुशकिल से चलता

रेडियो – एक लघु कथा

सन 1980-1990 का दशक बिन रेडियो के अधूरा था। अब रेडियो के महत्त्व को क्या बतलायें; उस ज़माने में घर के हर एक सदस्य के पास अपना रेडियो होता था। बाबा का अपना, पिताजी का अपना, माँ का अपना और पढ़ने वाले बच्चों का अपना। समाचार, क्रिकेट कमेंट्री, सखी सहेली और विविध भारती लोगों

हिंदी कहानी – समाज

एक तरफ़ पहाड़ झाड़ियां तीन तरफ़ मैदानी इलाका, उस गाँव में गेहूँ मक्का से ज़्यादा बाग़-बागीचे तो कहीं अमरूदों के पेड़। खुशहाल गाँव के लोग एक दूसरे की अधिक से अधिक इज्जत करते जो गाँव का सरपंच कह दे, सारा गाँव उसे खिले माथे मान लेते। गाँव में लोग पशु-पालना बैलगाड़ीयाँ रखने में बड़ा

लालटेन – लघु कथा

द्वार पर बैठे ‘बाबा सुखीराम‘ ने अपने नाती-पोतों को आवाज़ मारते हुए कहा – सांझ हो गया जी, तुमलोग लालटेन नहीं बारे ? चलो सबलोग लालटेन लेकर आओ पढ़ाई करो ! प्रतिदिन शाम के 7 बजते ही ‘बाबा सुखीराम’ यूँ आवाजें मारकर बच्चों को पढ़ने के लिए बुलाते। सुखीराम अपने ज़माने के बड़े पढ़े

प्रेम मरता नहीँ

शिवा जब मरने की बात करती तो शिव को अच्छा नही लगता था। मन होता उसके बोलते हुए अधरों पर हाथ रख दे ताकि शब्द वहीँ मौन हो जाएँ और वो अपनी बात पूरी ही न कर सके, पर वो मजबूर था क्योंकि बातचीत का माध्यम तो सन्देशों का आवागमन था। मिले तो सिर्फ